खेल

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने क्यों कहा- पर्थ में टॉस गंवाना अच्छा होगा

 भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज के दूसरे मैच में पर्थ के नए स्टेडियम, ऑप्टस में दोनों टीमों के बीच मुकाबला शुक्रवार से शुरू होगा. मैच को लेकर बयानबाजी चरम पर है. एक तरफ विराट कोहली को आशा है कि नए मैदान की पिच की घास को हटाया नहीं जाएगा और यह टीम के तेज गेंदबाजों के लिए अधिक मददगार साबित होगी. वहीं ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने भारत के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच की पूर्व संध्या पर कहा कि पिच की घास वाली प्रकृति और गर्म मौसम को देखते हुए टास गंवाना अच्छा होगा. 

पेन ने ऑप्टस स्टेडियम में होने वाले पहले टेस्ट के बारे में कहा, ‘‘हां, मैं कहूंगा कि टास गंवाना अच्छा होगा. सच कहूं तो मैंने आज इसके बारे में सुबह क्यूरेटर से बात की. मुझे नहीं लगता कि पिच इतनी खराब होगी. यहां वनडे और टी20 के लिए, दोनों विकेट सफेद गेंद के क्रिकेट के लिए सचमुच घास से भरे लग रहे थे लेकिन इस पर काफी अच्छा खेल हुआ.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इतनी गर्मी को देखते हुए यह शायद टूटेगा और आप मैच के दौरान दरारें देख सकते हो. जो है वो तो है ही और आप कल सुबह जो कुछ करोगे (टास जीतो या गंवाओ), आपको सचमुच अच्छी शुरूआत करनी होगी. ’’

कोई बदलाव नहीं मेजबान टीम में
ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे टेस्ट के लिये टीम में कोई बदलाव नहीं किया है. पेन ने माना कि भारत तेज गेंदबाजों वाले आक्रमण के साथ उतर सकता है और साथ ही उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया ने अपना काम कर लिया है. खिलाड़ियों के चोटिल होने के कारण भारत ने अपनी टीम में कुछ बदलाव किये हैं.

यह कहा अपनी टीम के बारे में
उन्होंने कहा, ‘‘उनकी टीम में नए खिलाड़ी आ रहे हैं. हमने इसके बारे में बात की, लेकिन हमने पिछले कुछ हफ्तों में उनकी पूरी टीम पर ध्यान लगाया है ताकि हम उनकी मजबूती और कमजोरियों को जान सकें. लेकिन अंत में यह मैदान पर एकजुट प्रदर्शन करने की बात होती है. वे अंतिम एकादश में जिन खिलाड़ियों को शामिल करें, वे तैयारी के साथ चुनौती पेश करेंगे और वे सीरीज में 2-0 से बढ़त बनाना चाहेंगे. इसलिये हमें पहली ही गेंद से मैच में कब्जा जमाना होगा. ’’ 

इस नए टेस्ट स्थल की पिच पर हरी घास देखकर भारतीय खेमा चिंतित नहीं हुआ बल्कि वह इसके मौके के रूप में देख रहा था. कप्तान कोहली इसे देखकर रोमांचित हैं. भारत के पास तेज गेंदबाजी में सक्षम आक्रमण है और इसलिए कोहली ने पिच को देखकर कहा, ‘‘हम यहां की जीवंत पिच देखकर चिंतित होने के बजाय रोमांचित हैं.’’ 

उछाल वाली पिच बनाई है क्यूरेटर ने
क्यूरेटर ब्रेट सिपथोर्प ने उछाल वाली पिच तैयार करने की कोशिश की. ऑस्ट्रेलिया का यह दाव उस पर उलटा पड़ सकता है. भारत अब इस तरह की पिचों पर खेलने से नहीं घबराता और वह यहां 2-0 से बढ़त हासिल करने के इरादे से उतरेगा. भारत ने एडीलेड में पहला टेस्ट मैच 31 रन से जीता था. वाका के पुराने मैदान की पिच को हमेशा तेज गेंदबाजों के अनुकूल माना जाता था और यहां नए मैदान पर भी उसी परंपरा को बरकरार रखने का प्रयास किया गया है. इस स्टेडियम पर यह पहला टेस्ट मैच होगा. पिच पर घास होने से दोनों टीमों को निश्चित तौर पर अपनी रणनीति बदलनी होगी. 

Related Articles

Back to top button