Uncategorized

पुलिस आयुक्‍त केके राव ने कहा ‘हमें राज्‍य सरकार की ओर से लैंड डील में वाड्रा और हुड्डा के खिलाफ जांच की अनुमति मिल गई है.’

लैंड डील केस में फंसे कांग्रेस की पूर्व अध्‍यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की मुश्किलें अब और बढ़ सकती हैं. इस मामले में उनके खिलाफ जांच शुरू करने की अनुमति गुरुग्राम पुलिस को मिल गई है्. उनके साथ ही इस मामले में हरियाणा के पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ भी पुलिस जांच करेगी. हुड्डा पर लैंड डील में वाड्रा को फायदा पहुंचाने के आरोप हैं.

शुक्रवार को गुरुग्राम के पुलिस आयुक्‍त केके राव ने प्रेस कांफ्रेंस करके यह जानकारी दी. उन्‍होंने कहा ‘हमें राज्‍य सरकार की ओर से लैंड डील में वाड्रा और हुड्डा के खिलाफ जांच की अनुमति मिल गई है.’ उन्‍होंने बताया कि इस मामले की जांच जारी है. 

बता दें कि रॉबर्ट वाड्रा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर लैंड डील की जांच की आंच के बीच मौजूदा हरियाणा सरकार आ गई थी. गुरुग्राम पुलिस ने प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट की धारा की वजह से 17A के तहत सितंबर में जांच की अनुमति के लिए राज्‍य सरकार को पत्र लिखा था.

ज़ी न्यूज से बातचीत में गुरुग्राम पुलिस के कमिश्नर ने सितंबर में बताया था कि ‘हमने अनुमति के लिए 1 सितंबर को राज्‍य सरकार से जांच करने के लिए पत्र लिखा है. जैसे ही अनुमति मिल जाएगी, हम जांच शुरू कर देंगे. क्योंकि 26 जुलाई को प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट में संशोधन हुआ था. इसके बाद अब इस धारा के तहत एफआईआर दर्ज होने के बाद पहले सरकार से अनुमति लेनी पड़ती है.’

दरअसल पिछले साल 26 जुलाई को प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट में संशोधन हुआ था. अब प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज होने के बाद सरकार से 17A के तहत अनुमति लेनी होती है. जांच करने से पहले सरकार से अनुमति लेनी पड़ती है. सीपी गुरुग्राम ने हरियाणा डीजीपी को लिखा था ‘हमें मामले में जांच करने के लिए सरकार से अनुमति दिलाएं. डीजीपी ने अनुमति के लिए लिखा गया पत्र हरियाणा सरकार के गृह विभाग को भेजा था.

Related Articles

Back to top button