राजनीति

लड़ाकू विमान राफेल के सौदे को लेकर एक बार फिर संसद में चर्चा होने जा रही है

लड़ाकू विमान राफेल के सौदे को लेकर एक बार फिर संसद में चर्चा होने जा रही है। कांग्रेस और सरकार दोनों इस पर चर्चा के लिए तैयार हो गए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस चर्चा में भाग ले रहे हैं। वहीं, भाजपा की ओर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इस चर्चा में सरकार का पक्ष रखेंगी। उधर, राफेल सौदे पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर फिर से पुनर्विचार याचिका दाखिल किए जाने की तैयारी हो रही है। 

लाइव अपडेट्सः-

– राहुल गांधी ने पूछा, ‘राफेल एयरक्राफ्ट का चयन एयरफोर्स की 8 सालों की कड़ी मेहनत के बाद हुआ था। उन्हें 126 विमानों की जरूरत थी। सवाल ये है कि 126 से 36 विमान खरीदने का फैसला किसने लिया?’

– कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल सौदे पर विचार रख रहे हैं। इस दौरान सदन में नारेबाजी करते AIDMK के नेताओं के लिए उन्होंने कहा कि वे प्रधानमंत्री को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। 

ऐसे तैयार हुई चर्चा की जमीन

गौरतलब है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को लोक सभा में इस सौदे की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति बनाने की मांग और नारेबाजी कर रहे कांग्रेसी नेताओं को इस मुद्दे पर बहस की चुनौती दी थी। लोक सभा में भोजनावकाश के बाद जैसे ही सदन की कार्यवाही अनुदान की पूरक मांगों पर चर्चा के लिए शुरु हुई तभी कांग्रेस नेता खड़गे ने खड़े होकर राफेल सौदे की जांच के लिए जेपीसी गठित करने की मांग दोहरा दी।

इस पर वित्त मंत्री ने कहा कि खड़गे को इस मुद्दे पर तत्काल ही चर्चा शुरू कर देनी चाहिए। सरकार जवाब देने को तैयार है। जेटली ने कहा कि खड़गे चर्चा से भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि राफेल मुद्दे पर चर्चा होनी चाहिए। यह चर्चा होने पर वह साबित कर देंगे कि कांग्रेस पार्टी झूठ फैला रही है। 

कांग्रेस ने स्वीकारी चुनौती

तभी खड़गे ने कहा कि जेटलीजी ने उन्हें चुनौती दी है और दो जनवरी को वह इस पर बहस को तैयार हैं। कृपया समय तय कर दिया जाए। इसके बाद जब सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित होने वाली थी तभी खड़गे ने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को चर्चा के बारे में याद दिलाते हुए इसके लिए समय मांगा।

इस पर महाजन ने कहा कि वह समय के बारे में निर्णय करेंगी, लेकिन खड़गे तत्काल ही उनसे तारीख और समय का निर्णय नहीं करा सकते। महाजन ने खड़गे से कहा कि वह उनकी चुनौती उनके पास ही रखें और लोक सभा अध्यक्ष को चुनौती न दें।

राफेल सौदे के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल

वहीं, दूसरी ओर राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर एक बार फिर से पुनर्विचार याचिका दाखिल कर दी है। भाजपा के पूर्व नेता यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी के अलावा वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने सु्प्रीम कोर्ट से अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की है। इन तीनों ने कोर्ट को 14 दिसंबर के याचिका खारिज करने के फ़ैसले पर पुनर्विचार के कई आधार दिए हैं। 

कांग्रेस के आरोपः मनोहर पर्रिकर के पास हैं राफेल की फाइल्स

कांग्रेस पार्टी ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर अब पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्‍यमंत्री मनोहर पर्रीकर को घेरा है। रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान पर्रीकर पर गंभीर आरोप लगाए। साथ ही मोदी सरकार से सवाल किया कि राफेल सौदे से जुड़े कौन-से राज पर्रीकर के फ्लैट में छिपे हैं। कांग्रेस ने मांग की कि राफेल विमान सौदे से जुड़ी फाइलें सामने लाई जाएं।

Related Articles

Back to top button