Uncategorized

महात्मा गांधी इतना चले थे पैदल कि पृथ्वी के दो चक्कर हो जाते पूरे

नई दिल्ली के नेशनल गांधी म्यूजियम में सुरक्षित रखी गईं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के स्वास्थ्य से जुड़ी फाइलें पहली बार एक किताब की शक्ल में लोगों के सामने आई है। ‘गांधी एंड हेल्थ @ 150’ शीर्षक से प्रकाशित इस किताब में खुलासा किया गया है कि 220/110 तक के हाई ब्लडप्रेशर की गिरफ्त में होने के बावजूद बापू कैसे खुद को फ‍िट रख पाते थे।

किताब को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की ओर से प्रकाशित कराया गया है। किताब को धर्मशाला में 14वें दलाई लामा द्वारा लॉन्च किया। इस मौके पर दलाई लामा ने कहा कि अहिंसा और मानसिक चिकित्सा पर महात्मा का दर्शन 21वीं सदी में भी प्रासंगिक है। किताब में माहात्मा के स्वास्थ्य से जुड़ी रिपोर्ट के हवाले से चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, साल 1938 में बापू का वजन 46.7 किलोग्राम और उनकी लंबाई पांच फुट पांच इंच थी। बॉडी मास इंडेक्स (17.1-) के लिहाज से यह दशा ‘अंडरवेट’ कही जाएगी। मौजूदा वक्त में यदि कोई इस हालत में हो तो केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक, ‘उसे ज्यादा और संतुलित भोजन करने साथ नियमित हेल्थ चेकअप की जरूरत है।’ इन सबके बावजूद महात्मा ने आजादी की लड़ाई का नेतृत्व करते हुए देश को स्वतंत्र कराया।

सन 1927 से बापू को हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत सामने आई थी। 19 फरवरी 1940 को बापू का ब्लडप्रेशर 220/110 तक पहुंच गया था। फ‍िर भी बापू जीवित रहे और खुद को शांत बनाए रखा। कुछ महीने बाद बापू ने सुशीला नैयर को एक चिट्ठी लिखी थी। इस पत्र में उन्होंने नैयर से कहा था कि मैं हाई ब्लडप्रेशर के हवाले हूं, मैंने सर्पगंधा की तीन बूंदें ली हैं। इस बीमारी के बावजूद बापू कैसे खुद को फ‍िट रखते थे, इस बारे में किताब के 166वें पेज में खुलासा किया गया है। इस पेज में बताया गया है कि बापू रोज 18 किलोमीटर पैदल चलते थे। यही नहीं 1913 से 1948 तक बापू ने लगभग 79,000 किलोमीटर की पैदल यात्रा की। किताब के मुताबिक यह दूरी पृथ्वी की गोलाई के लगभग दोगुने के बराबर है।

मलेरिया की भी चपेट में आए थे बापू

Related Articles

Back to top button