उत्तर प्रदेशराज्य

अहमदाबाद जेल में बंद अतीक अहमद के लखनऊ में दो और प्रयागराज में चार ठिकानों पर सीबीआइ का छापा

गुजरात की अहमदाबाद जेल में बंद समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद अतीक अहमद के लखनऊ और प्रयागराज समेत छह ठिकानों पर बुधवार सुबह सीबीआइ ने छापा मारा है। सीबीआइ ने लखनऊ में दो और प्रयागराज में चार स्थानों पर यह कार्रवाई की है। जांच एजेंसी लखनऊ के रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल के अपहरण और देवरिया जेल में उनके साथ मारपीट मामले की जांच कर रही है। मोहित की चार कंपनियां भी अतीक और उसके गुर्गों के नाम पर करने का आरोप है। इसी मामले की सीबीआइ जांच का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिया है।

बुधवार सुबह से सीबीआइ की चार टीमें अतीक अहमद के ऑफिस और घर पर छापेमारी कर रही हैं। चारों टीम में लगभग 25 अधिकारी सर्च अभियान में लगे हैं । अतीक अहमद के चकिया में स्थित आवास, ऑफिस, और बादशहीमंडी में फारूख के घर पर छापेमारी की कार्रवाई हुई है। अतीक के घर और ऑफिस के बाहर भारी संख्या में पुलिसबल मौजूद है। अतीक अहमद के खिलाफ मोहित जायसवाल ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली थी, जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर नैनी सेंट्रल जेल से अतीक अहमद को अहमदाबाद जेल शिफ्ट किया गया है।

माफिया अतीक अहमद पर बसपा विधायक राजू पाल की हत्या सहित हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण, ज़मीन कब्ज़ा, मारपीट, फिरौती सहित तमाम मामले दर्ज हैं। अतीक का भाई अशरफ बीजेपी की सरकार बनने के बाद से फरार है। सीबीआइ के छापामारी के दौरान कई कंपनी पीएसी और आरएएफ की टुकड़ी पूरे इलाके में तैनात की गई हैं।

माफिया से नेता बने अतीक अहमद के खिलाफ सीबीआइ ने उनके प्रयागराज स्थित घर पर छापेमारी की कार्रवाई की है। सीबीआइ टीम सुबह 7:30 बजे पुलिस और आरएएफ के साथ उनके आवास पर पहुंची। इस दौरान परिसर को सील कर दिया गया है, बाहर से किसी को भी अंदर जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। जांच अधिकारी फिलहाल जांच-पड़ताल में जुटे हैं।

देवरिया जेल में हुई थी मोहित की पिटाई

लखनऊ के रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल का 26 दिसंबर, 2018 को अपहरण कर देवरिया जेल ले जाया गया और वहां उनकी पिटाई की गई थी। यह मामला मीडिया में आने के बाद छह सदस्यों की जांच टीम गठित की थी। जांच में सामने आया कि मोहित जायसवाल को अगवा कर लखनऊ से देवरिया जेल लाया गया था। जेल के अंदर अतीक अहमद और उसके गुर्गों ने उसकी पिटाई की थी। इतना ही नहीं मुलाकाती रजिस्टर में मोहित का नाम अतीक से मिलने वालों की सूची में भी दर्ज है।

अतीक के करीबियों पर भी कसेगा सीबीआइ का शिकंजा

देवरिया जेल में बाहुबली अतीक अहमद द्वारा रियल एस्टेट कारोबारी की पिटाई के मामले की जांच कर रही सीबीआइ का शिकंजा अब अतीक के करीबियों पर कसने की तैयारी है। सीबीआइ ने उस दौरान शहर के होटलों में ठहरने वाले लोगों का विवरण खंगाला। उनके कॉल डिटेल निकालने की भी तैयारी है। लखनऊ के विश्वेश्वर नगर निवासी मोहित जायसवाल का अपहरण कर देवरिया जेल में 26 दिसंबर 2018 को अतीक व उसके गुर्गों ने पिटाई की थी। सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर जांच सीबीआइ कर रही है।

कई के दर्ज हो चुके बयान

देवरिया जेल के बंदी रक्षकों, बंदियों व पूर्व जेल अधीक्षक समेत विभिन्न लोगों का बयान दर्ज हो चुके हैं। साथ ही, अतीक से मिलने आने वालों की जेल पर्ची व मुलाकात पर्ची की जांच की है। सीबीआइ को अतीक के करीबियों के जेल में रुकने व सुविधाओं को मुहैया कराने की सूचना मिली है। सूत्र बताते हैं कि जेल से सीबीआइ ने फैक्स मशीन व अन्य सामान भी कब्जे में ले लिया है।

अतीक के गुर्गे रहते थे होटलों में

अतीक के देवरिया जिला जेल में पहुंचने से पहले ही उसके गुर्गे जिले में पहुंच गए थे। होटलों अथवा शहर में किराये के मकान में ठहरे थे। स्टेशन रोड स्थित एक होटल में स्वाट टीम ने 2018 में दबिश दी थी, उस समय कुछ लोग पुलिस के हाथ भी लगे थे।

सीबीआइ ने अतीक के करीबी के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया

सीबीआइ ने पूर्व सांसद अतीक अहमद के करीबी साथी जफर उल्लाह के खिलाफ आरोपपत्र दायर कर दिया है। अधिकारियों के अनुसार, पूर्व सांसद और उनके साथियों पर जेल से लखनऊ के रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल के अपहरण की साजिश रचने का आरोप है। केंद्रीय जांच एजेंसी उत्तर प्रदेश से समाजवादी पार्टी के सांसद रह चुके अतीक के खिलाफ रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल का दिसंबर 2018 में अपहरण और मारपीट करने के आरोप में मामला दर्ज कर चुकी है। अधिकारी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पिछले महीने मामला दर्ज किया गया।

Related Articles

Back to top button