विदेश

एवरेस्ट पर नहीं होगा कोई Plastic, विश्व के सबसे ऊंचे पर्वत पर एक उपयोग वाले प्लास्टिक बैन

दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत माउंट एवरेस्ट(Mount Everest) पर प्रदूषण को कम करने के लिए नेपाल सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है। साल 2020 तक एवरेस्ट क्षेत्र(Everest Region) को प्लास्टिक मुक्त क्षेत्र बनाने के मकसद से सरकार ने एकल उपयोग वाले प्लास्टिक(Single Use Plastics) पर प्रतिबंध(Ban) लगाने का फैसला किया है।ईयू की खबर के अनुसार, नेपाल के सोलुखुम्बु जिले की खुम्ब पासंग लामू ग्रामीण नगर पालिका की कार्यकारी परिषद बुधवार को इस निर्णय पर पहुंची। यह नया नियम 1 जनवरी 2020 से लागू हो जाएगा।

प्लास्टिक की ज्यादातर वस्तुओं पर प्रतिबंध
अंतरराष्ट्रीय पर्यावरणविदों ने अपनी चिंता व्यक्त की है कि नेपाल ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी के नाजुक वातावरण की रक्षा करने के लिए पर्याप्त नहीं किया है। गणेश घिमिरे, मुख्य प्रशासनिक ग्रामीण नगरपालिका के अधिकारी ने कहा कि 30 माइक्रोन से कम मोटाई वाली प्लास्टिक वस्तुओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इन वस्तुओं में प्लास्टिक की थैलियां, तिनके, सोडा और पानी की बोतलें और अधिकांश खाद्य पैकेजिंग शामिल हैं।

उन्होंने कहा, ‘कोक, फैंटा, स्प्राइट, मिरिंडा और प्लास्टिक की बोतलों में अन्य पेय पदार्थ जैसे लोकप्रिय कोल्ड ड्रिंक की अनुमति नहीं होगी। लेकिन धातु के डिब्बे में कोल्ड ड्रिंक्स की अनुमति दी जाएगी। हालांकि घिमिरे ने कहा कि नियम का उल्लंघन करने वाले लोगों के खिलाफ अभी तक कोई जुर्माना का प्रावधान नहीं है।

विदेशी सैलानियों-लोगों को किया जाएगा जागरूक
नेपाल सरकार अगले साल ‘विजिट नेपाल’ अभियान पर भी ध्यान दे रही है, जिसका लक्ष्य 20 लाख विदेशी सैलानियों को पर्यटन के लिए आकर्षित करना है।

उन्होंने कहा, ‘हम स्थानीय निकाय, ट्रेकिंग कंपनियों और नेपाल के पर्वतारोहण संघ के साथ प्रतिबंध लागू करने के लिए काम करेंगे।’ उन्होंने कहा कि पर्यावरण पर प्लास्टिक के नकारात्मक प्रभावों के बारे में स्थानीय लोगों और विदेशी सैलानियों में जागरूकता पैदा की जाएगी। घिमिरे ने कहा कि खंबु क्षेत्र में रहने वाले स्थानीय लोगों को विभिन्न प्रकार और आकारों के पांच प्लास्टिक बैग प्रदान किए जाएंगे, जिन्हें वे दैनिक गतिविधियों के लिए उपयोग कर सकते हैं।

56,303 विदेशी ट्रेकर्स और पर्वतारोहियों ने एवरेस्ट क्षेत्र का दौरा किया। दुनिया के सबसे ऊंचे शिखर तक पहुंचने के लिए सैकड़ों विदेशी पर्वतारोही हजारों डॉलर खर्च करते हैं, जो आमतौर पर अप्रैल के शुरू में शुरू होता है और मई तक रहता है।

Related Articles

Back to top button