धर्म

चाणक्य नीति

मुझे वह दौलत नही चाहिए जिसके लिए कठोर यातना सहनी पड़े,
सदाचार का त्याग करना पड़े या अपने शत्रु की चापलूसी करनी पड़े|

Related Articles

Back to top button