उत्तर प्रदेशराज्य

बिजनौर और बलिया से आ रही गंगा यात्रा का 31 जनवरी को गंगा बैराज स्थित निषाद पार्क में होगा समागम

बिजनौर और बलिया से आ रही गंगा यात्रा का 31 जनवरी को गंगा बैराज स्थित निषाद पार्क में समागम होगा। बिजनौर से आ रही यात्रा गुरुवार शाम तक बिठूर पहुंच रही है। यात्रा के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, सिंचाई एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बलदेव सिंह औलख, जल शक्ति मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो समेत सूबे के कई मंत्री बिठूर पहुंचेंगे। गुरुवार सुबह फर्रुखाबाद पहुंचने के बाद कन्नौज में प्रवेश कर गई है। इसके बाद बिल्हौर से कानपुर नगर में प्रवेश कर जाएगी। समागम के दिन राज्यपाल आनंदी बेन पटेल व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे और गृहमंत्री अमित शाह के भी आने की उम्मीद है।

पंचाल घाट पर हुआ गंगा पूजन और हवन

बिजनौर से चली गंगा यात्रा सुबह दस बजे फर्रुखाबाद के पांचाल घाट पर पहुंच गई। यहां पर गंगा पूजन के बाद हवन किया गया। इस दौरान नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा समेत 6 मंत्रियों ने गंगा जल से आचमन किया। वहीं उपमुख्यमंत्री का कार्यक्रम निरस्त हो गया। फतेहगढ़ में स्कूली बच्चों ने मानव श्रंखला बनाकर गंगा यात्रा का स्वागत किया। बच्चों ने यात्रा पर फूल बरसाए और जयकारे लगाए। यात्रा की अगुवाई करते कई बाइक सवार चलते रहे। यहां से यात्रा कन्नौज के लिए रवाना हो गई।

गंगा यात्रा में शामिल होने कन्नौज पहुंचे डिप्टी सीएम

फर्रुखाबाद के बाद गंगा यात्रा कन्नौज सीमा में प्रवेश कर गई। इत्र नगरी में जनता ने यात्रा का स्वागत किया। सवा दो बजे रामाश्रम पहुंची और पीडब्ल्यूडी के निरीक्षण भवन के सामने करीब 20 मिनट तक लोगों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया। केंद्रीय वन राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो ने गंगा स्वच्छता का संकल्प लेने का आह्वान किया। यात्रा में शामिल गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा, वित्तमंत्री सुरेश खन्ना, व्यवसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री कपिल देव अग्रवाल, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बलदेव सिंह औलख, राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष जसवंत सिंह, छिबरामऊ विधायक व पूर्व मंत्री अर्चना पांडे, तिर्वा विधायक कैलाश राजपूत आदि रथ पर सवार थे। गुरसहायगंज, जलालाबाद होते हुए यात्रा रीब चार बजे यात्रा शहर के बोर्डिंग ग्राउंड पहुंची। यहां उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और कैबिनेट मंत्री सतीश महाना यात्रा में शामिल हुए। जीटी रोड पर शिक्षकों ने मानव श्रृंखला बनाई।

आरती के लिए वाराणसी से बुलाए पुरोहित

अटल घाट पर मां गंगा की आरती के लिए वाराणसी से पुरोहित बुलाए गए हैं। गंगा यात्रा समागम में 20 से 25 हजार श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। उन्हें गंगा रोजगार का माध्यम कैसे बने, उसे प्रदूषण मुक्त रखने के लिए क्या उपाय अपनाना है, यह समझाया जाएगा। गंगा के संरक्षण का संकल्प भी दिलाया जाएगा। बिजनौर से आ रही यात्रा का कानपुर प्रवेश पर सबसे पहले बिल्हौर के गांगूपुर गांव के पास स्वागत होगा। वहां कबड्डी प्रतियोगिता में विजेता टीम को सम्मानित किया जाएगा। यहां से यात्रा उत्तरीपुरा, शिवराजपुर, चौबेपुर व मंधना होते हुए बिठूर पहुंचेगी।

शाम को बिठूर पहुंचेगी गंगा यात्रा

गुरुवार की शाम छह बजे गंगा यात्रा के पहुंचने पर बिठूर के पत्थर घाट पर गंगा आरती होगी, जबकि सात बजे नानाराव पार्क में सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। वहीं गंगा यात्री रात्रि प्रवास करेंगे। शुक्रवार सुबह 10 बजे ब्रह्मावर्त घाट पर गंगा पूजन किया जाएगा। यहां से 84 यात्री बोट द्वारा गंगा बैराज के पास बने बोट क्लब पहुंचेंगे, जबकि बाकी सड़क मार्ग से समागम स्थल पर आएंगे। बलिया से चली यात्रा गुरुवार को उन्नाव में आ जाएगी। यात्रा पहले उन्नाव के बक्सर घाट पहुंचेगी, फिर शुक्लागंज घाट आएगी।

अटल घाट पर महाआरती

घाट पर गंगा आरती और गंगा पूजन होगा। 31 जनवरी को वहां से 44 गंगा यात्री बोट से गंगा बैराज के पास स्थित अटल घाट पहुंचेंगे। बाकी यात्री सड़क मार्ग से आएंगे। दोपहर 12 बजे बैराज पर गंगा आरती होगी। बारिश की आशंका को ध्यान में रखते हुए वाटर प्रूफ पंडाल बनाया गया है। बिठूर के पत्थर घाट, ब्रह्मावर्त घाट व शुक्लागंज के घाटों को सजाया जा रहा है। बिजनौर से आई गंगा यात्रा कानपुर जिले के 40 गांवों से होकर बैराज पहुंचेगी। इन गांवों में नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा की ओर से विकास कार्य कराए जा रहे हैं।

बांटी जाएगी 20 हजार ‘गंगा लहरी’ 

डीएम डॉ. ब्रह्मदेव राम तिवारी ने बताया कि ‘पतितपावनी’ के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए समागम स्थल पर 20 हजार ‘गंगा लहरी’ का वितरण किया जाएगा। गंगा लहरी पुस्तिका गीताप्रेस से मंगाई गई है। अटल घाट पर 48 गुणा आठ फीट का बैनर लगाया जा रहा है, जिसमें गंगा की महिमा से जुड़े श्लोक अंकित होंगे। समागम स्थल पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसके लिए अलग से स्टेज बनाया गया है। गंगा के अवतरण और उनकी महिमा से जुड़ी झांकियां दिखाई जाएंगी। बैराज पर एलईडी स्क्रीन लगाई जा रही हैं।

बिठूर में प्रवास करेंगे 300 यात्री

बिठूर में 300 यात्रियों के रात्रि प्रवास के लिए नानाराव पार्क का डाक बंगला, प्राइवेट गेस्ट हाउस बुक किए गए हैं। इससे अधिक संख्या होने की स्थिति में सिद्धिधाम आश्रम और बिठूर के अन्य आश्रमों में श्रद्धालु ठहराए जाएंगे। शुक्लागंज में 200 से 250 यात्रियों के रात्रि विश्राम की व्यवस्था वहीं के गेस्ट हाउस में की गई है। अधिक संख्या होने के अनुमान पर सर्किट हाउस में जगह आरक्षित की गई है।

यहां होगी पार्किंग

31 जनवरी के समागम के लिए उन्नाव की ओर मक्खनपुरवा गांव के पास पार्किंग बनाई गई है। बिठूर की ओर से आने वाले वाहनों को मैनावती मार्ग पर, जबकि कानपुर से आने वाले वाहनों को वीएसएसडी कॉलेज नवाबगंज के पास रोका जाएगा।

यह भी हो रहे प्रयास

  • गांवों को खुले में शौच मुक्त घोषित किया जा रहा है।
  • पॉलीथिन पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गई है।
  • गंगा संरक्षण तालाब स्थापित किए जा रहे हैं।
  • ग्रामीण युवाओं के लिए ओपेन जिम खुलेंगे।
  • गंगा किनारे के दोनों ओर औषधीय गुणों वाले पौधे लगाए जाएंगे।
  • महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य की निगरानी होगी।
  • गंगा आरती चबूतरे का निर्माण।

Related Articles

Back to top button