खेल

भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की चोट इस समय सबसे बड़ा चिंता का विषय, आखिर ऐसा क्यों

जसप्रीत बुमराह की चोट इस समय सबसे बड़ा चिंता का विषय है। पीठ की चोट के कारण वह साउथ अफ्रीका के खिलाफ जारी टी20 सीरीज से तो बाहर हो गए हैं, साथ ही उनके टी20 वर्ल्ड कप से भी बाहर होने का खतरा है।

भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की चोट इस समय सबसे बड़ा चिंता का विषय है। पीठ की चोट के कारण वह साउथ अफ्रीका के खिलाफ जारी टी20 सीरीज से तो बाहर हो गए हैं, साथ ही उनके टी20 वर्ल्ड कप से भी बाहर होने का खतरा है। इस बीच क्रिकेट पंडित और पूर्व क्रिकेट या तो बुमराह के रिप्लेसमेंट की बातें कर रहे हैं या उनकी चोट पर अपनी-अपनी राय दे रहे हैं। इस कड़ी में पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट्ट ने भी अपनी राय रखी है। सलमान ने जसप्रीत बुमराह की तुलना फरारी कार से करते हुए कहा है कि ऐसे गेंदबाजों को हर मैच हर सीरीज खिलाने की जरूरत नहीं होती है।

बता दें, इंग्लैंड दौरे पर जसप्रीत बुमराह को इस चोट ने परेशान किया था। जुलाई के बाद यह तेज गेंदबाज एनसीए में था। टी20 वर्ल्ड कप से पहले मैच प्रैक्टिस के लिए बुमराह को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी20 सीरीज में जगह दी गई थी, वहीं उनका चयन साउथ अफ्रीका सीरीज के लिए भी हुआ था। मगर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज से पहले यह खिलाड़ी अनफिट हो गया।

सलमान बट्ट ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा ‘जसप्रीत बुमराह का एक्शन ऐसा है कि उनकी पीठ पर ज्यादा जोर पड़ता है। वो तीनों फॉर्मेट भी खेलते हैं, बहुत सारी क्रिकेट खेलते हैं। इंडिया का आईपीएल भी बहुत लंबा होता है। तो उन्हें देख कर खिलाना होगा। देखिए जो फरारी है, एस्टन मार्टिन है या लैंबरगिनी है ये जो महंगी महंगी तेज चलने वाली गाड़ियां हैं इन्हें वीकएंड कार्स कहते हैं। इन्हें रोजाना नहीं चलाया जा सकता। ऐसे ही इन जैसे तेज गेंदबाजों को देख कर इस्तेमाल कर हर मैच हर सीरीज में इन्हें खिलाने की जरूरत नहीं है।’

इसी के साथ पाकिस्तानी पूर्व कप्तान ने कहा कि जसप्रीत बुमराह की चोट बाकी गेंदबाजों के लिए एक अवसर है। बुमराह की गैरमौजूदगी में उनके पास अगला बुमराह बनने का मौका है। पहले भारत बुमराह पर निर्भर था अब अन्य जो गेंदबाज आएंगे उनपर भार बराबर बराबर बंटेगा।

उन्होंने आगे कहा ‘जसप्रीत बुमराह का चोटिल होना भारत के लिए बड़ा झटका है। भारतीय टीम अपनी बॉलिंग को ही मजबूत करना चाहता है और बुमराह टीम के बॉलिंग अटैक को मजबूती दिते हैं। बुमराह का अनुभव, उनकी लाइन और लेंथ, उनकी यॉर्कर, उनकी स्लोअर वन.. वह एक कंपलीट पैकेज हैं। वह जिस जगह बॉलिंग करते हैं वहां इंपैक्ट क्रिएट करते हैं। बुमराह की गैरमौजूदगी में अन्य तेज गेंदबाजों को उभरने का समय मिलेगा। अगर टीम में सिराज, चाहर, उमरान जैसे गेंदबाज आते हैं तो वह टीम इंडिया के बॉलिंग अटैक को लीड करेंगे। बुमराह पर जो टीम अत्यधिक निर्भर करती थी वो अब सब में डिवाइड होगा। बुमराह का चोटिल होना भारत के अन्य तेज गेंदबाजों के लिए अवसर है, उन्हें इसे दोनों हाथों से लपकना चाहिए।’ 

Related Articles

Back to top button