उत्तर प्रदेश

शिवपाल ने मुलायम को प्रधानमंत्री बनाने का संकल्प लिया था, अखिलेश ने उसे तोड़ दिया- प्रसपा

कांग्रेस और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) की विचारधारा यदि मिलती है तो गठबंधन होना तय है। दोनों दलों के बीच गठबंधन की बात चल रही है। इसके संकेत प्रसपा के प्रदेश अध्यक्ष सुंदरलाल लोधी ने अपने बयान में दिए हैं। इस दौरान उन्होंने अखिलेश यादव और मायावती पर तंज कसे।

यूपी के फर्रुखाबाद जिले में मसेनी चौराहा स्थित गेस्ट हाउस में प्रसपा के प्रदेश अध्यक्ष सुंदरलाल लोधी ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने मुलायम सिंह यादव को प्रधानमंत्री बनाने का संकल्प लिया था, लेकिन सपा मुखिया अखिलेश यादव ने बसपा से गठबंधन कर इस संकल्प को तोड़ दिया।

अखिलेश यादव ने रिश्तों को भी नहीं निभाया- सुंदरलाल लोधी

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव तो मायावती को पीएम उम्मीदवार भी घोषित कर चुके हैं। इससे साफ है कि उन्होंने मायावती के आगे सरेंडर कर दिया है। अखिलेश यादव ने रिश्तों को भी नहीं निभाया। गठबंधन के सवाल पर कहा कि बगैर कांग्रेस के सपा-बसपा गठबंधन कामयाब नहीं है और कांग्रेस से प्रसपा की बात चल रही है। यदि दोनों की विचारधाराएं एक हुईं तो प्रसपा और कांग्रेस में गठबंधन होगा।
 
उन्होंने कहा कि प्रसपा 79 सीटों पर दमदारी से चुनाव लड़ेगी। मैनपुरी की सीट नेताजी मुलायम सिंह यादव के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष ने छोड़ी है, क्योंकि वह रिश्ते निभाना जानते हैं। भाजपा जुमलेबाजों की पार्टी है।

Related Articles

Back to top button