राज्य

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सदन में कहा कि ‘प्रधानमंत्री सम्मान निधि’ योजना का लाभ केवल उन्हीं किसानों को मिलेगा

 हरियाणा विधानसभा में बजट सत्र के दौरान विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला ने किसानों के मुद्दे पर सरकार की घेराबंदी की। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में करीब साढ़े पांच लाख किसानों को कवर नहीं किए जाने का आरोप लगाते हुए चौटाला ने सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की मांग की। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सदन में कहा कि ‘प्रधानमंत्री सम्मान निधि’ योजना का लाभ केवल उन्हीं किसानों को मिलेगा, जिनके पास पांच एकड़ तक जमीन है।

मुख्यमंत्री ने सदन में ऐलान किया कि पांच एकड़ से अधिक जमीन वाले किसान छह हजार रुपये सालाना की इस योजना के दायरे में शामिल नहीं होंगे। राजस्व रिकार्ड में जमीन किसानों के नाम होनी अनिवार्य है। अगर किसी व्यक्ति ने किसान से जमीन पट्टे पर ली हुई है तो उसे इसका लाभ नहीं मिलेगा। जिन किसानों ने जमीन अपने 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के नाम कराई हुई है, उन्हें भी योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।

मनोहर ने कहा कि केंद्र की योजना को प्रदेश में लागू किया जा रहा है। हरियाणा पहला राज्य होगा, जहां किसानों को योजना का सबसे पहले लाभ मिलेगा। प्रधानमंत्री 24 फरवरी को इस योजना का श्रीगणेश करेंगे और इसका लाभ लेने में हरियाणा अव्वल रहेगा। किसानों का पंजीकरण तेजी से किया जा रहा है।

इससे पहले अभय सिंह चौटाला ने सदन में कहा कि केंद्र सरकार की इस योजना का किसानों को कोई लाभ नहीं होने वाला। तेलंगाना सरकार द्वारा हर वर्ष किसानों को 4000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से बिजाई खर्च दिया जा रहा है। हरियाणा सरकार भी इसी तरह से किसानों को आर्थिक मदद करे। राज्य में करीब 16 लाख किसान हैैं, मगर सरकार लाभ साढ़े 10 लाख को दे रही है। सरकार यदि चाहती तो अपने स्तर पर यह लाभ उन किसानों को दे सकती है।

काले धन के मुद्दे पर भिड़े अभय और अभिमन्यु

विधानसभा में काले धन का मुद्दा भी काफी देर तक गरमाता रहा। अभय सिंह चौटाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वादे को आधार बनाकर कहा कि उन्होंने कहा था कि हर नागरिक के खाते में 15-15 लाख रुपये आएंगे, मगर अभी तक कुछ नहीं आया। इस पर वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि प्रधानमंत्री ने यह कभी नहीं कहा। अपनी बात को कहने के लिए उन्होंने जरूर कोई संदर्भ लिया होगा।

Related Articles

Back to top button