बिजनेस

बाजार में आई गिरावट और रिकवरी भारत की जवाबी कार्रवाई पर क्षणिक प्रतिक्रिया

 पाकिस्तान के कब्जे वाली कश्मीर में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के ठिकाने पर हवाई हमले की खबर के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव में होने वाली संभावित वृद्धि की आशंका से बाजार धाराशायी हो गया।

मंगलवार सुबह बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों का बेंचमार्क इंडेक्स, सेंसेक्स सुबह 239.67 अंकों की गिरावट के साथ 35,973.71 पर जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों वाला बेंचमार्क इंडेक्स, निफ्टी 104.8 अंकों की कमजोरी के साथ 10,775.30 पर खुला।

देखते ही देखते सेंसेक्स 458 अंक, जबकि निफ्टी 100 से अधिक अंकों का गोता लगाते हुए 10,780 के नीचे जा पहुंचा।

हालांकि, सरकार के बयान के बाद स्थिति साफ हुई और बाजार ने भरोसा दिखाते हुए निचले स्तर से शानदार रिकवरी की और सेंसेक्स 239 अंकों की गिरावट के साथ 35,973.71 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी 44.80 अंकों की कमजोरी के साथ 10,835.30 पर बंद हुआ। निफ्टी में 30 शेयर लाल निशान में जबकि 19 शेयर हरे निशान में बंद हुए।

निफ्टी में सबसे ज्यादा गिरावट इंडियाबुल्स फाइनैंस, एसचीएल टेक, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक और इन्फोसिस के शेयरों में आई, जबकि जी एंटरटेनमेंट, टाटा मोटर्स, आईओसी, कोल इंडिया और टीसीएस टॉप गेनर रहें।

बाजार में आई गिरावट और रिकवरी, भारत की जवाबी कार्रवाई पर क्षणिक प्रतिक्रिया थी, जिसका बाजार की वास्तविक स्थिति पर कोई फर्क नहीं पड़ा।

दबाव में बाजार से कमजोर हुआ रुपया: बाजार की कमजोरी का असर भारतीय मुद्रा पर भी पड़ा। डॉलर के मुकाबले रुपया 28 पैसे की कमजोरी के साथ 71.26 पर खुला। भारत की कार्रवाई के बाद दोनों देशों की बीच तनाव की आशंकाओं से शेयर बाजार में बिकवाली का दबाव नजर आया, जिससे रुपये में कमजोरी आई।

हालांकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में गिरावट से रुपये को सपोर्ट मिला।

एयर स्ट्राइक पर सरकार ने साफ की स्थिति: भारतीय वायुसेना ने मंगलवार तड़के पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया। दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी (सीसीएस) की बैठक के बाद विदेश सचिव विजय के गोखले ने मीडिया से कहा कि इस नॉन मिलिटरी प्री-एम्पटिव एक्शन में खास तौर से आतंकवादी शिविरों को निशाना बनाया गया। उन्होंने कहा कि यह शिविर बालाकोट में है।

पाकिस्तान ने स्पष्ट किया है कि भारतीय हमला नियंत्रण रेखा के करीब बालाकोट में हुआ है।

भारतीय वायुसेना की यह कार्रवाई 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर एक आत्मघाती हमले के बाद हुई है। इस आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हुए थे, जिसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।

Related Articles

Back to top button