खेलवीडियो

पुजारा-रहाणे से नहीं सीखा फिंच ने सबक, आउट नहीं थे फिर भी लौटे पवेलियन

 टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया में 10 साल बाद टेस्ट मैच जीतने के करीब है. विराट कोहली की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गई टीम इंडिया एडिलेड टेस्ट में चौथे दिन मजूबत स्थिति में आ गई है. भारत ने ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 323 का लक्ष्य दिया है. मेजबान टीम अभी मैच बचाने के लिए संघर्षरत है. भारत की पूरी टीम लंच के बाद 12 ओवर के अंदर 307 रन पर ही आउट हो गई. इसके बाद 12 ओवर में ऑस्ट्रेलिया ने एरॉन फिंच का विकेट गिर गया लेकिन वे आउट ही नहीं थे और उन्होंने रीव्यू भी नहीं लिया. 

जब ऑस्ट्रेलिया को 323 रनों का लक्ष्य मिला तभी तय हो गया था कि ऑस्ट्रेलिया के लिए यह लक्ष्य आसान नहीं है. ऑस्ट्रेलिया ने आज तक इतना बड़ा लक्ष्य हासिल नहीं किया है. इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने 316 रनों का लक्ष्य साल 1901 में हासिल किया था. ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी में 11 ओवर तक अपना कोई विकेट नहीं गिरने दिया. फिंच औप मार्कर हैरिस ने मिलकर टीम के लिए 26 रन बना लिए थे. 

अश्विन की गेंद पर आउट दिए गए फिंच
12 ओवर जब अश्विन अपना तीसरा ओवर फेंकने आए. तब लेग स्लिप पर एक कैच का मौका आया जब केएल राहुल फिंच के इस ग्लांस पर कैच नहीं कर सके जो काफी कठिन था. लेकिन ओवर की आखिरी गेंद पर जब अश्विन की गेंद को फिंच ने फारवर्ड डिफेंसिव शॉट खेलने की कोशिश की गेंद अंदर टर्न हुई और पैड पर लगकर उछली जिसे पंत ने कैच कर लिया. भारतीय खिलाड़ियों की अपील पर अंपायर ने आउट दे दिया. 

फिंच पहले तो खड़े रहे लेकिन जब अंपायर ने उन्हें आउट दे दिया तो वे मार्कस हैरिस के पास गए और उनसे बात कर पवेलियन की ओर चल दिए. बाद में रीप्ले में साफ दिखा कि फिंच आउट नहीं थे और उनकी गेंद पहले बल्ले पर नहीं बल्कि पैड पर लगी थी. गेंद उनके बल्ले या ग्लब्स पर लगी ही नहीं थी. 

इससे पहले फिंच एक बार फिर दूसरी पारी में भी पहले ही ओवर में ईशांत शर्मा के शिकार बन गए थे. शानदार इंस्विंगर जब फिंच के पैड पर लगी तो ईशांत की अपील पर अंपायर धर्मसेना ने उन्हें आउट दे ही दिया. यहां फिंच ने रीव्यू लिया और ईशांत की गेंद नोबॉल करार दी गई. थर्ड अंपायर को होकाई की जरूरत ही नहीं पड़ी. ईशांत की नोबॉल ने फिंच को बचा लिया, लेकिन इस बात पर सवाल जरूर उठेंगे कि उन्होंने रीव्यू क्यों नहीं लिया. इस मामले में हैरिस की भूमिका पर भी सवाल उठ सकते हैं. 

भारत के जीतने की संभावना ज्यादा
टीम की कमजोर बल्लेबाजी को देखते हुए माना जा रहा है कि टीम इंडिया यह मैच जीत सकती है. फिंच के आउट होने पर अंपायर ने चायकाल की घोषणा कर दी थी. ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए चार सत्रों में 295 रन बनाने थे. 

पुजारा रहाणे की पारी के दम पर बने भारत के 300 रन
इससे पहले चेतेश्वर पुजारा और उपकप्तान अजिंक्य रहाणे की हाफ सेंचुरी की मदद से टीम इंडिया अपनी दूसरी पारी का स्कोर 300 से ज्यादा रन बनाने में कामयाब हो सकी. जिससे ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 323 रनों का लक्ष्य मिला. स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर की गैर मौजूदगी में ऑस्ट्रेलिया टीम पहले ही से काफी कमजोर मानी जा रही है. ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 98.4 ओवर खेलकर केवल 235 रन बनाए थे. 

Related Articles

Back to top button